Monday, November 30, 2020
Follow us on
 
 
 
National

कस्टम में सुप्रीटेंडेंट संदीप सिंह ने महिला को दिया प्लाज्मा

संजय कुमार मेहरा | October 20, 2020 04:14 PM

-लॉकडाउन के दौरान ड्यूटी पर संदीप सिंह हुए थे कोरोना संक्रमित
-अपनी सोसायटी में रहने वाली महिला को दिया प्लाज्मा

संजय कुमार मेहरा
गुरुग्राम/मुम्बई। नई दिल्ली के पालम एक्सटेंशन (द्वारका) निवासी मुम्बई में कस्टम विभाग में सुप्रीटेंडेंट संदीप सिंह ने एक महिला को प्लाज्मा देकर समाज सेवा का अनूठा उदाहरण पेश किया है। संदीप सिंह ने खुद कोरोना संक्रमित होने पर बहुत मानसिक तनाव झेला। जिससे निकलने में उनके परिवार, दोस्तों, रिश्तेदारों की अहम भूमिका रही।

 

कस्टम विभाग में सुपरिटेंडेंट संदीप सिंह ने नवी मुम्बई के अपोलो अस्पताल के आईसीयू में भर्ती एक महिला को प्लाज्मा देकर अनूठा उदाहरण पेश किया है। साथ ही यह आश्वासन भी दिया है कि अगर भविष्य में भी किसी को प्लाज्मा की जरूरत होगी तो वे फिर से प्लाज्मा डोनेट करने को तैयार रहेंगे। लॉकडाउन के दौरान जुलाई-अगस्त में कोरोना चरम पर था। देश की आर्थिक राजधानी मुम्बई समेत महाराष्ट्र के अनेक शहरों में कोरोना का फैलाव बढ़ता ही जा रहा था। वहीं देश के अन्य राज्यों में भी कोरोना का खौफ जारी था। हर कोई आतंकित था।

कस्टम विभाग में सुपरिडेंटेंड संदीप सिंह को वर्क फ्रॉम होम के बीच कस्टम विभाग के कार्यालय में बुला लिया गया। वे उसी दिन कोरोना पॉजिटिव कर्मचारी के सम्पर्क में आए और खुद भी कोरोना संक्रमित हो गए। फिर कोरोना संक्रमित होने के कारण 15 जुलाई से 7 अगस्त 2020 तक वे एकांतवास में रहे। अपने इस पीरियड के दौरान उन्होंने जो मानसिक तनाव झेला, वह बहुत पीड़ादायक रहा। कभी बुखार, कभी घबराहट तो कभी मानसिक परेशानी। हालत तो उस समय और भी खराब हुई जब उनके साथी अधिकारी का कोरोना संक्रमित होने के चलते निधन हो गया। इस घटना ने तो उन्हें और भी परेशान कर दिया।

 

पत्नी सरोज, बेटा वरदान और बेटी वीरा एक ही घर में उसने अलग एकांतवास में रहने को मजबूर हुए। संदीप सिंह कहते हैं कि पत्नी सरोज की जिम्मेदारी और अधिक बढ़ गई थी। उन्हें उनको संभालने के साथ-साथ बच्चों को भी देखना था। बेटी वीरा छोटी है। वह कभी उनका दरवाजा खटखटाती तो कभी दरवाजा खुला देखकर कमरे में पहुंच जाती। खुद भी बीमार हुई, लेकिन खुद की सेहत का ख्याल ना करके सरोज ने पूरे परिवार को खान-पान के साथ मानसिक पीड़ा से बाहर निकालने में अहम भूमिका निभाई। हिम्मत नहीं हारी। पूरे परिवार की कोरोना जांच हुई। जब तक रिपोर्ट नहीं आई, तब तक तनाव का पारा बहुत अधिक चढ़ा हुआ था। खैर 22 जुलाई 2020 को परिवार में पत्नी सरोज, बेटा वरदान और बेटी वीरा की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई। इससे सभी ने सुकून की सांस ली। वहीं 24 जुलाई को संदीप सिंह की कोरोना जांच हुई और इस बार भी रिपोर्ट पॉजिटिव आने से परिवार की चिंता बढ़ गई। हालांकि चिकित्सकों ने उन्हें एकांतवास में रहकर खुद की देखरेख और इम्युनिटी बूस्टर लेने की बात कही। आखिरकार 7 अगस्त 2020 को संदीप ङ्क्षसह की भी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई। तब जाकर परिवार का तनाव खत्म हुआ।

 
Have something to say? Post your comment
More National News
दिल्ली कूच : बैरिकेडिंग तोड़कर किसान पहुंचे दिल्ली
गुरुग्राम: डांस कला मेरे जीवन का हिस्सा नहीं मेरा जीवन है: टाइगर पॉप
गुरुग्राम: सीडी अकादमी ने बीपीटी को 290 रनों से हराया
वो मुसलमान होकर भी मनाता है दीवाली, कारीगरों की करता है आरती
गुरुग्राम: क्रिकेट टूर्नामेंट में सीडी अकादमी की लगातार दूसरी जीत
गुरुग्राम: महाराजा अग्रसेन के पदचिन्हों पर चल करेंगे समाजसेवा: अशोक बंसल
गुरुग्राम: श्री माता शीतला रोड के सौंदर्यकरण को एक आवाज संस्था सक्रिय
अंडर-17 में सीडी क्रिकेट अकादमी ने दर्ज की शानदार जीत
गुरुग्राम: अंडर-17 में सीडी क्रिकेट अकादमी ने दर्ज की शानदार जीत
सीएम ने करनाल से किया गुरुग्राम में यू-टर्न फ्लाईओवर का लोकार्पण