Chandigarh

केमिकल फैक्ट्री में लगी आग, 3 घंटे में पाया काबू

November 24, 2017 11:39 AM

चंडीगढ़,23 नवंबर ( न्यूज़ अपडेट इंडिया )  : बापूधाम स्थित एल्थाइट एसिएट केमिकल फैक्ट्री (एएसी केमिकल) में वीरवार शाम शॉर्ट सर्किट से आग लग गई। हालांकि, आग लगने से पहले कर्मचारियों की छुंट्टी हो जाने के कारण किसी तरह का जानी नुकसान नहीं हुआ और हादसे के समय अंदर बैठे मालिक व तीन कर्मचारी समय रहते सुरक्षित बाहर निकल गए। जबकि, सूचना पाकर पहुंचे 11 फायर टेंडरों ने करीब 3 घंटे में आग पर काबू पा लिया। दीपक कुमार ने बताया कि उनकी फैक्ट्री में 10 ड्रम केमिकल रखा हुआ था। ये केमिकल प्रिंटिंग प्रेस में इस्तेमाल किए जाते हैं। शाम को अचानक फैक्ट्री के ऊपर से जाने वाले बिजली के तार से शॉर्ट सर्किट हुआ और केमिकल के ड्रम में आग लग गई। धमाका होते ही उनके साथ मौजूद तीन कर्मचारी भी फैक्ट्री से बाहर निकल गए और उन्होंने पुलिस व फायर कंट्रोल रूम में घटना की सूचना दी। जिसके बाद पहुंची पुलिस टीम ने तुरंत मुख्य सड़क का यातायात नियंत्रित किया। फायर टेंडर के साथ पहुंचे कर्मचारी आग पर काबू पाने में जुट गए। फायर ऑफिसर लाल बहादुर ने बताया कि उनके पास कंट्रोल रूम में 5.37 बजे आग लगने की सूचना मिली थी। जिसके बाद मनीमाजरा स्टेशन से तीन गाड़ियां पहुंची। वहां से आग की लपटें देखकर फायर ऑफिसर ने सेक्टर-17, इंडस्ट्रियल एरिया से तीन-चार गाड़ियां मंगवाई। जिसके बाद चारों तरफ से घेरकर आग पर काबू पाया गया।

15 हजार प्रति ड्रम केमिकल की कीमत, 10 ड्रम जले

दीपक कुमार ने बताया कि उनके एक ड्रम में करीब 200 लीटर केमिकल होता है। इसमें एक ड्रम केमिकल की कीमत 15 हजार रुपये है। प्राथमिक जांच में 10 ड्रम केमिकल जलने की बात सामने आई है।

छुंट्टी होने से बच गया बड़ा हादसा

फैक्ट्री के आसपास रहने वाले लोगों ने बताया कि आग लगने से कुछ घंटे पहले रोजाना की तरह वर्कर काम पूरा करके जा चुके थे। हादसे के वक्त मालिक सहित सिर्फ तीन वर्कर अंदर मौजूद थे।

दूसरे फ्लोर तक जा रही थी लपटें

पड़ोस में रहने वाले युवक साहिब ने बताया कि आग की लपटें दूसरे फ्लोर तक जा रही थी। आग लगने के थोड़ी देर बाद 2 बार ब्लास्ट की आवाज भी आई। जिसके बाद आसपास के लोगों में दहशत फैल। जिसके बाद पूरे एरिया से पब्लिक की भीड़ भी लग गई। सूत्रों की माने तो अंदर रखे 2 सिलेंडर ब्लास्ट हुए थे। हालांकि, कोई इसकी पुष्टि नहीं कर रहा है।

पुलिस ने तुरंत की घेराबंदी

सूचना मिलने के बाद डीएसपी सतीश कुमार व ट्रैफिक डीएसपी यशपाल मौके पर पहुंच गए। एक तरफ ट्रैफिक डीएसपी यशपाल व इंस्पेक्टर कपिल देव ने दोनों तरफ के मोड़ पर यातायात की व्यवस्था टीम के साथ संभाली। जबकि, दूसरी ओर डीएसपी सतीश ने घटनास्थल पर पहुंचकर घेराबंदी करवाने के बाद फायर टेंडर का रास्ता साफ करवाया। पुलिस व फायर विभाग के कर्मचारियों की मदद से आग बढ़ने से पहले काबू पा लिया गया।

मच्छी मार्केट में छाया अंधेरा

फैक्ट्री के आसपास में एरिया का मच्छी मार्केट लगती है। एक दुकानदार आदिल ने बताया कि हादसे के समय कुछ दुकानदार मौजूद थे लेकिन हादसा होते ही दुकान उठाकर निकल गए। पूरे एरिया में अंधेरा छाया हुआ था। खबर लिखे जाने तक फायर टेंडर व पुलिस के कर्मचारी मौके पर मौजूद थे। इस दौरान जले हुए सामान को पलटकर उन पर पानी फेंका जा रहा था। आसपास के एरिया में चेकिंग अभियान भी जारी था।

 
Have something to say? Post your comment