Tuesday, May 22, 2018
Follow us on
 
 
 
Religion

विवाह पंचमी: इस दिन हुआ था भगवान राम-सीता का विवाह, पूजा करने से मिलेंगे ये लाभ 

November 23, 2017 02:55 PM

धर्म डेस्क,23 नवंबर ( न्यूज़ अपडेट इंडिया ) : मार्गशीर्ष शुक्ल की पंचमी को विवाह पंचमी मनाई जाती है। इस दिन भगवान राम-सीता का शुभ विवाह हुआ था। जिसके कारण इसके श्री राम के विवाहोत्सव के रुप में मनाई जाती है। इस बार विवाह पंचमी 23 नवंबर, गुरुवार को है।

भारत में कई स्थानों पर विवाह पंचमी को बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन पूजा करने के विशेष लाभ है। इस दिन पूजा करने से भगवान राम और माता सीता की कृपा बनी रहती है। साथ हर काम में सफलता मिलती है।दुनिया को राक्षस रावण समेत अन्य के अत्याचार से मुक्ति दिलाने के लिए भगवान श्रीराम का विवाह माता जानकी से हुआ था। जिसके बाद ही दुनिया के लोग रावण सहित अन्य राक्षसों के अत्याचारों से मुक्ति मिली थी। इसलिए इस दिन इनकी पूजा करने से सभी बाधाओं से मुक्ति मिल जाती है।

अगर आपके घर में अधिक कलह हो रही हो तो इस दिन पूजा करें आपको लाभ मिलेगा। हर काम में सफलता प्राप्त होगी।
अगर आप निसंतान है, तो इस दिन जरुर पूजा करे आपको जल्दी ही संतान की प्राप्ति होगी।
अगर आपके हर काम में असफलता प्राप्त हो रही है, तो इस दिन पूजा करें।
जिनती जन्मपत्री में मंगल दोष है या जिनका विवाह नहीं हो पा रहा है या जिनका दांपत्य जीवन कष्टप्रद है, उनके लिए विवाह पंचमी की पूजा वरदान साबित होगी।
इस दिन रामायण के बालकाण्ड में निहित श्री राम और सीता के विवाह प्रसंग का पाठ करना शुभ फलदायक होता है।

 
Have something to say? Post your comment
 
More Religion News
इलाहाबाद के इस मंदिर में लेटे हुए हैं हनुमान जी
एक बार जरूर करें देवी के शक्‍तिपीठ महालक्ष्मी मंदिर कोल्हापुर के दर्शन
घर लाएं श्री गणेश की ऐसी मूर्ति, कभी नहीं होगी धन की कमी
शुक्रवार को करें चमेली के फूल से ये उपाय, शुक्र दोष से निजात मिलने के साथ होगी हर इच्छा पूरी
शनि अमावस्या 2017: बन रहा है खास योग, बीमारियों से निजात पाने के लिए अपनाएं ये उपाय
शास्त्रों के मुताबिक रविवार के दिन सरसों के तेल से सिर पर मालिश करना है अशुभ, जानिए क्यों 
14 नवंबर आपके लिए हो सकता है खास, इन दिन ये उपाय कर पाएं मनवांछित फल
क्या आपको भी रात में आते हैं बुरे और डरावने सपने, करें ये उपाय
एक मंदिर ऐसा भी : जहां मुर्दे भी हो जाते हैं जीवित
भैरवाष्टमी में करें पूजन, क्रूर ग्रह और शनि का प्रकोप होगा शांत