Wednesday, January 17, 2018
Follow us on
 
 
 
International

चीन ने भारत से सीमा मामले में 'ऐतिहासिक समझौते' का पालन करने की अपील की

October 08, 2017 10:55 PM

बीजिंग, 08 अक्तूबर ( न्यूज़ अपडेट इंडिया ) चीन ने रविवार को 1890 के ब्रिटेन-चीन समझौते का हवाला देते हुए दावा किया कि इसमें चीन-भारत सीमा के सिक्किम सेक्टर के सीमांकन किया गया है. चीन ने भारत से आग्रह किया कि इसके प्रावधानों का पालन करें. रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के नाथुला चौकी का दौरा करने के एक दिन बाद चीन की तरफ से यह बयान आया है। 
 सीतारमण के सीमावर्ती इलाके के दौरे पर प्रतिक्रिया जताते हुए चीन के विदेश मंत्रालय ने कहा, 'चीन-भारत सीमा के सिक्किम सेक्टर को ऐतिहासिक सीमा द्वारा सीमांकित किया गया है.' सीतारमण के दौरे के बारे में मंत्रालय ने लिखित जवाब में कहा, 'इस तथ्य का यह सर्वश्रेष्ठ प्रमाण है.' हम भारतीय पक्ष से आग्रह करते हैं कि वह तथ्यों का सामना करे, ऐतिहासिक सीमा समझौता के प्रावधानों और पक्षों के बीच प्रासंगिक समझौते का पालन करे और सीमावर्ती इलाकों में शांति बनाए रखने के लिए चीन के साथ मिलकर काम करे। मंत्रालय ने प्रत्यक्ष तौर पर 1890 के ब्रिटेन-चीन संधि का जिक्र नहीं किया. इसका बीजिंग ने अकसर डोकलाम गतिरोध के दौरान जिक्र करते हुए कहा कि इसमें तिब्बत के साथ सिक्किम क्षेत्र को परिभाषित किया गया है. लिहाजा इलाके में सीमा का समाधान हुआ है।   सीतारमण ने एक दिन पहले चीन-भारत सीमा पर नाथुला इलाके का दौरा किया था और सेना तथा भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के अधिकारियों से वार्ता की. नाथुला अंतिम चौकी है जो भारत के सिक्किम और चीन के तिब्बत की सीमा को अलग करता है। सीमा के सिक्किम सेक्टर में डोकलाम में भारत और चीन के सैनिकों के बीच 73 दिनों तक चले गतिरोध के बाद सीतारमण का दौरा इलाके का पहला उच्चस्तरीय दौरा था. जम्मू-कश्मीर से अरुणाचल प्रदेश के बीच 3488 किलोमीटर लंबी सीमा में से 220 किलोमीटर लंबी सीमा सिक्किम में पड़ती है. विवाद के समाधान के लिए दोनों पक्षों के बीच अभी तक विशेष प्रतिनिधि स्तर की बातचीत के 19 दौर हो चुके हैं। 

 
Have something to say? Post your comment