Religion

देव के जगने के बाद नहीं होगे शुभ कार्य, जानिए कब-कब है विवाह के शुभ मुहूर्त

November 03, 2017 11:37 AM

दिल्ली ,2 नवंबर ( न्यूज़ अपडेट इंडिया ) देवुत्थान एकादशी के दिन भगवान विष्णु जग जाते है। जिसके साथ ही शुभ कार्य होना शुरु हो जाते है।  लेकिन इस बार नंवबर और दिसंबर में केवल 15 ही विवाह के शुभ मुहूर्त है, क्योंकि इस बार भगवान के जगने के बाद भी शुभ काम नही होगे।

दरअसल देवशयनी एकादशी से देवुत्थान एकादशी तक यानी चार महीने भगवान विष्णु का शयनकाल है। जिसमें कोई भी शुभ काम नहीं किया जाता है। देवुत्थान एकादशी के दिन तुलसी विवाह कराया जाता है। जिसके साथ शुभ काम शुरु हो जाते है। लेकिन इस बार शुभ काम में देरी है। इसका मुख्य काररण गुरु और शुक्र का अस्त होना है।

गुरु और शुक्र ग्रह दोनों ही विवाह के कारक ग्रह होते है। जिनसे बिना विवाह नहीं हो सकता है। इन दोनों का उदय 10 नवंबर को होगा।

10 नवंबर को दोनों उदय होने के साथ-साथ सूर्य 17 नवंबर को वृश्चिक राशि में प्रवेश करेगा। जिसके कारण विवाह मुहूर्त 19 नवंबर से शुरु होकर 12 दिसंबर तक का ही मुहूर्त है। जिसके कारण इन दो माह में केवल 15 मुहूर्त है।

नवंबर माह में शुभ मुहूर्त
इस साल नवंबर माह में  विवाह के शुभ मुहूर्त 19, 22, 23, 24, 28, 29 और 30 है।

दिसंबर माह में शुभ मुहूर्त
इस माह में सिर्फ 5 ही शुभ मुहूर्त है। जो कि 3, 4, 10, 11, 12 है। इसके बाद साल 2018 में विवाह के मुहूर्त मकर संक्रांति के बाद से शुरु है। जो कि मार्च में होली तक है। इसके बाद कुछ माह के लिए विवाह नहीं होगे।

 
Have something to say? Post your comment
 
More Religion News
इलाहाबाद के इस मंदिर में लेटे हुए हैं हनुमान जी
एक बार जरूर करें देवी के शक्‍तिपीठ महालक्ष्मी मंदिर कोल्हापुर के दर्शन
घर लाएं श्री गणेश की ऐसी मूर्ति, कभी नहीं होगी धन की कमी
विवाह पंचमी: इस दिन हुआ था भगवान राम-सीता का विवाह, पूजा करने से मिलेंगे ये लाभ 
शुक्रवार को करें चमेली के फूल से ये उपाय, शुक्र दोष से निजात मिलने के साथ होगी हर इच्छा पूरी
शनि अमावस्या 2017: बन रहा है खास योग, बीमारियों से निजात पाने के लिए अपनाएं ये उपाय
शास्त्रों के मुताबिक रविवार के दिन सरसों के तेल से सिर पर मालिश करना है अशुभ, जानिए क्यों 
14 नवंबर आपके लिए हो सकता है खास, इन दिन ये उपाय कर पाएं मनवांछित फल
क्या आपको भी रात में आते हैं बुरे और डरावने सपने, करें ये उपाय
एक मंदिर ऐसा भी : जहां मुर्दे भी हो जाते हैं जीवित