Sunday, April 22, 2018
Follow us on
 
 
 
Religion

तुलसी जी के 8 नाम, जो पूर्ण करते हैं पूजन और देते हैं पुण्य

October 31, 2017 09:42 AM

दिल्ली,30 अक्तूबर ( न्यूज़ अपडेट इंडिया ) शास्त्रों में कहा है देवताओं के दिन-रात धरती के छह महीने के बराबर होते हैं। इसी आधार पर जब वर्षाकाल प्रारंभ होता है, तो देवशयनी एकादशी को देवताओं की रात्रि प्रारंभ होकर शुक्ल एकादशी यानी देवउठनी एकादशी तक छह माह तक देवताओं की रात रहती है। कहा जाता है कि इस दौरान तुलसी की पूजा से ही देवपूजा का फल मिलता है।

देवउठनी से छह महीने तक देवताओं का दिन प्रारंभ हो जाता है। अतः तुलसी का भगवान श्री हरि विष्णु की शालीग्राम स्वरूप के साथ प्रतीकात्मक विवाह कर श्रद्धालु उन्हें वैकुंठ को विदा करते हैं। इस तिथि को तुलसी बैकुंठ लोक में चली जाती हैं और देवताओं की जागृति होकर उनकी समस्त शक्तियों पृथ्वी लोक में आकर लोक कल्याणकारी बन जाती हैं।

तुलसी पूजा का मंत्र

वृन्दा वृन्दावनी विश्वपूजिता विश्वपावनी। पुष्पसारा नन्दनीच तुलसी कृष्ण जीवनी।।

एतभामांष्टक चैव स्रोतं नामर्थं संयुक्तम। य: पठेत तां च सम्पूज् सौऽश्रमेघ फललंमेता।।

तुलसी के आठ नाम – वृंदा, वृंदावनी, विश्वपूजिता, विश्वपावनी, पुष्पसारा, नन्दिनी, तुलसी और कृष्ण जीवनी। इस मंत्र का जाप करें या नहीं हो सके, तो तुलसी के इन आठ नामों को स्मरण करने से ही अक्षय फल मिलते हैं।

इन चीजों से करें तुलसी पूजन

तुलसी पूजा के लिए घी का दीपक और धूप लगाएं। सिंदूर, चंदन, नैवद्य और पुष्प अर्पित करें। रोजाना तुलसी का पूजन करने से घर का वातावरण पवित्र रहता है। इस पौधे में कर्इ ऐसे तत्व भी होते हैं, जिनसे रोग प्रतिरोधक क्षमता मिलती है। इसे प्राणदायनी कहा जाता है और जल या दूध में तुलसीदल डालने से वह पंचामृत हो जाता है।

 
Have something to say? Post your comment
 
More Religion News
इलाहाबाद के इस मंदिर में लेटे हुए हैं हनुमान जी
एक बार जरूर करें देवी के शक्‍तिपीठ महालक्ष्मी मंदिर कोल्हापुर के दर्शन
घर लाएं श्री गणेश की ऐसी मूर्ति, कभी नहीं होगी धन की कमी
विवाह पंचमी: इस दिन हुआ था भगवान राम-सीता का विवाह, पूजा करने से मिलेंगे ये लाभ 
शुक्रवार को करें चमेली के फूल से ये उपाय, शुक्र दोष से निजात मिलने के साथ होगी हर इच्छा पूरी
शनि अमावस्या 2017: बन रहा है खास योग, बीमारियों से निजात पाने के लिए अपनाएं ये उपाय
शास्त्रों के मुताबिक रविवार के दिन सरसों के तेल से सिर पर मालिश करना है अशुभ, जानिए क्यों 
14 नवंबर आपके लिए हो सकता है खास, इन दिन ये उपाय कर पाएं मनवांछित फल
क्या आपको भी रात में आते हैं बुरे और डरावने सपने, करें ये उपाय
एक मंदिर ऐसा भी : जहां मुर्दे भी हो जाते हैं जीवित