Business

एयरटेल छोड़ सभी पुरानी मोबाइल कंपनियों के घटे ग्राहक, जियो की हिस्‍सेदारी 13 फीसदी के पार

October 24, 2017 11:52 AM

नई दिल्ली,23 अक्तूबर ( न्यूज़ अपडेट इंडिया ) । भारत के टेलिकॉम सेक्‍टर में अधिकाधिक हिस्सेदारी को लेकर कंपनियों में जंग जारी है। इसी बीच सितंबर महीने में एयरटेल को छोड़कर सभी प्रमुख पुरानी मोबाइल कंपनियों के ग्राहकों की संख्या कुल मिलाकर 19 लाख से ज्यादा घटी है। देश में मोबाइल ग्राहकों की कुल संख्या सितंबर महीने के आखिर में कुल मिलाकर 94.66 करोड़ रही जो कि अगस्त की तुलना में 19.33 लाख की गिरावट दिखाती है।

सेल्युलर आपरेटर्स एसोसिएशन आफ इंडिया सीओएआई का कहना है कि समूचे देश में मोबाइल ग्राहकों की संख्या सितंबर महीने में 94,66,09,770 रही जो कि अगस्त महीने में 94,85,43,107 रही थी। संगठन के अनुसार सितंबर के इन आंकड़ों में रिलायंस जियो व मुंबई तथा दिल्ली में सेवा दे रही सरकारी क्षेत्र की एमटीएनएल के ग्राहकों की अगस्त महीने की संख्या के घट बढ़ को शामिल नहीं किया गया है। आंकड़ों के अनुसार मोबाइल ग्राहकों की संख्या के लिहाज से सितंबर महीने में भारती एयरटेल 29.80 प्रतिशत बाजार भागीदारी के साथ शीर्ष पर रही। इस दौरान उसके ग्राहकों की संख्या लगभग 10 लाख बढ़कर 28.20 करोड़ हो गई। वहीं वोडाफोन 20.74 करोड़ ग्राहकों के साथ दूसरे व 19 करोड़ ग्राहकों के साथ आइडिया तीसरे स्थान पर रही।

रोचक तो यह है कि इस दौरान पुरानी दूरसंचार कंपनियों में केवल एयरटेल के ही ग्राहक बढ़े। बाकी प्रमुख पुरानी कंपनियों की संख्या कम हुई। सीओएआई के अनुसार सितंबर महीने में वोडाफोन की ग्राहक संख्या लगभग सात लाख व आइडिया की ग्राहक संख्या लगभग नौ लाख कम हुई। इसी तरह एयरसेल व टेलीनोर के ग्राहकों की संख्या भी क्रमश: 3.94 लाख व 9.37 लाख घटी। सीओएआई के इन आंकड़ों में सितंबर महीने में रिलांयस जियो की बाजार भागीदारी 12.858 करोड़ ग्राहकों अगस्त के आंकड़े के आधार पर के साथ 13.58 प्रतिशत बताई गई। जियो व एमटीएनएल के सितंबर महीने की ग्राहक संख्या में परिवर्तन को इसमें शामिल नहीं किया गया है। उल्लेखनीय है कि देश का दूरसंचार क्षेत्र विलय व अधिग्रहण के दौर से गुजर रहा है। वोडाफोन-आइडिया व एयरटेल-टाटा टेलीसर्विसेज के विलय सौदे अभी सिरे चढ़ने हैं।

 
Have something to say? Post your comment
 
More Business News
पेनाल्टी से लीगल एक्शन तक: लोन न चुकाना पड़ेगा कितना भारी, जानिए
ऑनलाइन फ्रॉड का शिकार होने पर आपको मिलेगा कितना रिफंड, जानिए
जानिए रिस्क फ्री निवेश के बारे में, नहीं होता पैसा डूबने का कोई खतरा
क्रिटिकल इलनेस कवर कितना जरूरी, जानिए कैसे करें इसका चुनाव
ईएमआइ के बोझ से बचाएगा रिवर्स ईएमआइ फंड का तरीका
हेल्थ पॉलिसी खरीदने से पहले इन बातों का रखें ध्यान, होगा फायदा
मुनाफाखोरी रोधी प्राधिकरण के गठन को कैबिनेट की मंजूरी
आपके बच्चों को कभी नहीं सताएगी पैसों की चिंता, ऐसे करें प्लानिंग
फ्री कॉल और डाटा के बाद अब जियो देगा सस्‍ता किराना, अंबानी ने शुरू की फि‍र हलचल मचाने की तैयारी
वीवो ने खोला ऑफर्स का पिटारा, लेटेस्‍ट फोन पर मिल रही है हजारों की छूट