Chandigarh

पंचकूला हिंसा के लिए हनीप्रीत के माध्यम से आए थे सवा करोड़

October 06, 2017 08:20 PM
चंडीगढ़,06 अक्तूबर (न्यूज अपडेट इंडिया ) । डेरा सच्चा सौदा प्रमुख को साध्वी बलात्कार मामले में सजा सुनाए जाने के बाद पंचकूला में हुई हिंसा में हनीप्रीत का हाथ था। हनीप्रीत को पूरे घटनाक्रम के बारे में पहले से ही जानकारी थी। पुलिस रिमांड के दौरान हनीप्रीत द्वारा पुलिस को किसी तरह से भी सहयोग नहीं किया जा रहा है जबकि उसकी सहयोगी सुखदीप ने पुलिस को कई अहम जानकारियां दी हैं। सुखदीप की जानकारी के आधार पर पुलिस ने आदित्य इंसा व पवन इंसा को गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी शुरू कर दी है।

पुलिस रिमांड में सुखदीप टूटी,हनीप्रीत नहीं कर रही सहयोग
फरारी के दौरान राजस्थान में दिल्ली में रहने के सबूत

पंचकूला अदालत द्वारा रिमांड पर भेजे जाने के बाद पुलिस हनीप्रीत व सुखदीप को लेकर बृहस्पतिवार को बठिंडा गई थी, लेकिन हनीप्रीत ने बठिंडा में पुलिस को कोई भी सही जानकारी नहीं दी और वह हर बार बयान बदल-बदल कर पुलिस को गुमराह करती रही। जिसके चलते पुलिस ने बीती रात उसे वापस पंचकूला ले आई। पंचकूला वापस आने के बाद पुलिस ने हनीप्रीत से सच बुलवाने के कई प्रयास किए लेकिन पुलिस के सभी प्रयास विफल साबित हुए। पुलिस ने आज यह स्वीकार किया कि बठिंडा में जिस जगह पुलिस हनीप्रीत के साथ गई थी वहां ऐसा कोई सबूत नहीं मिला की हनीप्रीत फरारी के वक्त वहां रही थी।
इसके उलट पुलिस रिमांड के दौरान हनीप्रीत की सहयोगी सुखदीप कौर ने पुलिस को कई अहम जानकारियां दी हैं। पुलिस को पुख्ता प्रमाण मिला है कि हनीप्रीत के माध्यम से ही पंचकूला में हिंसा फैलाने के लिए सवा करोड़ रुपए पहुंचाए गए थे। इसके बाद पंचकूला के डेरा प्रेमियों ने पंचकूला में हिंसा फैलाई। इसके अलावा पुलिस को कई ऐसे प्रमाण मिले हैं जिसमें यह साफ संकेत मिल रहे हैं कि हनीप्रीत का पंचकूला दंगों में पूरा-पूरा हाथ था। इन सबूतों को अगली पेशी के दौरान अदालत में रखा जाएगा।
खुद पंचकूला के पुलिस आयुक्त ए.एस. चावला ने स्वीकार किया है कि हनीप्रीत पुलिस को सहयोग नहीं कर रही है। उन्होंने आशंका जताई कि हनीप्रीत के वकील ने उसे हर पहलू से तैयार कर रखा है। डेरा प्रबंधन के 45 सदस्यों को किसी तरह का नोटिस दिए जाने से इनकार करते हुए पुलिस आयुक्त ने कहा कि इस समय पुलिस की प्राथमिकता 25 अगस्त की हिंसा में जिम्मेदार लोगों को पकडऩा है। फिलहाल पुलिस हनीप्रीत को कहीं और लेकर जाने की बजाए यहीं रखकर पूछताछ कर रही है। जिसके चलते पता चला है कि फरारी के दौरान वह ज्यादातर समय राजस्थान में ही रही है। इसके अलावा कुछ दिन दिल्ली में ही रही है।
हनीप्रीत को शरण देने के मामले में पंजाब के किसी भी पुलिस अधिकारी के शामिल होने से इनकार करते हुए पुलिस आयुक्त ने कहा कि पूछताछ के दौरान आदित्य इंसा व पवन इंसा के संदिगध ठिकानों के बारे में पता चला है। जिसके आधार पर पुलिस तलाश कर रही है। पुलिस आयुक्त ने दावा किया कि आदित्य इंसा विदेश में नहीं बल्कि भारत में ही है।
इसी में बाक्स----
खट्टा सिंह की अपील पर सीबीआई को नोटिस जारी     
पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने गुरमीत राम रहीम के पूर्व ड्राइवर खट्टा सिंह की अपील पर सीबीआई को 31 अक्टूबर के लिए नोटिस जारी किया है। खट्टा सिंह ने यह अपील सीबीआई कोर्ट पंचकूला के 25 सितंबर के आदेशों के खिलाफ दायर की थी। जिसमे उसकी रंजीत सिंह मर्डर केस में पुन: गवाही दर्ज करवाने की मांग को रद्द कर दिया गया था। खट्टा सिंह के मुताबिक वह रंजीत सिंह और पत्रकार छत्रपति की हत्या के दौरान डेरे में तैनात था और इन हत्याओं को लेकर जानकारी रखता है। ऐसे में उसकी गवाही अहम साबित हो सकती है। हालांकि वह इससे पहले वह कई बार गवाही में मुकर चुका है।
 
Have something to say? Post your comment