Monday, April 12, 2021
Follow us on
 
 
 
Haryana

हरियाणा में बाल यौन उत्पीड़न के खिलाफ अभियान चलाएगी पुलिस

February 26, 2021 06:27 PM
चंडीगढ, 25 फरवरी। हरियाणा के पुलिस महानिदेशक मनोज यादव ने बाल यौन उत्पीड़न रोकने के लिए सभी के सहयोग से व्यापक स्तर पर प्रयासों की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा कि इस सामाजिक बुराई पर पूर्णतः अंकुश लगाने के लिए ’स्पीक-अप’ संस्कृति को प्रोत्साहन देकर सभी को आवाज बुलंद करनी होगी।  
डीजीपी गुरुवार को पंचकूला में हरियाणा राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग द्वारा हरियाणा पुलिस के सहयोग से आयोजित राज्यव्यापी सामाजिक जागरूकता अभियान ’हिफाज़त’ की शुरूआत करने के उपरांत कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।
सहज-सजग-सुरक्षित बचपन विषय पर आमजन को जागरूक होने का आह्वान करते हुए उन्होंने कहा कि बाल यौन उत्पीड़न एक गंभीर अपराघ एवं अत्यंत सवेंदनशील मुद्दा है। आज बचपन को उन्हीं से सर्वाधिक खतरा है जिस पर बच्चे सबसे अधिक विश्वास करते हैं। दुर्भाग्यवश बाल यौन उत्पीड़न जैसे गंभीर मुद्दे पर समाज में खुले तौर पर चर्चा नहीं होती। अगर होती है तो लोग असहज हो जाते है। उन्होंने बाल यौन शौषण को लेकर समाज में चुप्पी की मानसिकता को तौड़ने के लिए आयोग द्वारा की गई समग्र एवं सर्वांगीण पहल के लिए आयोग की चेयरपर्सन ज्योति बैंदा के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि बच्चे के विश्वास को तोड़कर बचपन को बर्बाद करने वाली यह समस्या केवल भारत में ही नहीं है बल्कि समस्त संसार में इसकी चर्चा हो रही है।
यादव ने कहा कि हरियाणा पुलिस द्वारा सभी महिला पुलिस थानों को चाइल्ड फ्रैंडली बनाने के लिए पहल की जा रही है। इस योजना के अंतर्गत प्रदेश के सभी महिला पुलिस थानों में एक चाइल्ड फ्रैंडली रूम बनाया जाएगा जहां माता-पिता के साथ आए व अन्य सभी बच्चे खेलकूद कर अपना समय व्यतीत कर सकेंगे। इस रूम मे बच्चों के लिए खिलौने, झूले व अन्य सामान उपलब्ध रहेगा।
इस अवसर पर डीजीपी हरियाणा ने अभियान ’हिफाज़त’ से संबंधित एक पुलिस बोर्ड का भी अनावरण किया जिसे प्रदेश के सभी पुलिस थानों में लगाया जाएगा। इसके अतिरिक्त, डीजीपी ने वीडियो वैन ’हिफाज़त एक्सप्रेस’ को भी हरी झंडी दिखा कर रवाना किया। इससे पहले समाज में बाल यौन उत्पीड़न पर जागरूकता को लेकर एक नुक्कड़ नाटक का भी मंचन किया गया।
इस अवसर पर विचार व्यक्त करते हुए एडीजीपी क्राइम अगेंस्ट वूमन, हरियाणा श्रीमति कला रामचंद्रन ने कहा कि स्वस्थ समाज के लिए बच्चों को यौन उत्पीडन एवं अन्य प्रकार के शोषण से सुरक्षित रखना आवश्यक है। इससे पहले बोलते हुए महिला एवं बाल विकास विभाग के आयुक्त एवं सचिव डाॅ.राकेश गुप्ता ने कहा कि बाल यौन उत्पीड़न रोकने के लिए व्यापक स्तर पर प्रयास की जरूरत है। उन्होंने हरियाणा से चलाए गए बेटी बचाओ-बेटी पढाओ अभियान का जिक्र करते हुए कहा कि इससे प्रदेश को राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय पर पहचान मिली।
हरियाणा राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की चेयनपर्सन ज्योति बैंदा ने कहा कि बचपन को सुरक्षित बनाने के लिए अब हमें मिलकर जिम्मेदारी उठानी होगी। लोगों का सिस्टम में विश्वास भी बढ रहा है। प्रत्येक बच्चे को बिना किसी भय के बढ़ने को अधिकार है। इस अवसर पर पुलिस आयुक्त पंचकूला सौरभ सिंह, पुलिस उपायुक्त पंचकूला मोहित हांडा, एसीपी पंचकूला श्रीमति ममता सौदा व पुलिस विभाग, हरियाणा राज्य विधि सेवा प्राधिकरण व आयोग के अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

 
Have something to say? Post your comment