Punjab

भारत में डिजिटल क्रांति से रोजगारपरकता में आया सुधार

February 22, 2021 02:45 PM

चंडीगढ़। कोरोना काल के बाद कौशल की मांग और आपूर्ति को आधार बनाकर व्हीबाक्स द्वारा टैग्ड, सीआईआई, एआईसीटीई और यूएनडीपी द्वारा संयुक्त रूप से जारी की गई इंडिया स्किल रिपोर्ट-2021 के अनुसार देश में दिल्ली एनसीआर, ओडिशा व उत्तर प्रदेश रोजगार योग्य प्रतिभा भारी मात्रा में मौजूद है। सर्वे में खुलासा हुआ है कि 45.9 प्रतिशत युवाओं को उच्च स्तरीय रोजगार के अनुकूल माना गया है।


इंडिया स्किल रिपोर्ट-2021 जारी
बैंकिंग और वित्तीय क्षेत्र में बढ़ेंगे रोजगार के अवसर


द इंडिया स्किल रिपोर्ट के बारे में जानकारी देते हुए व्हीबाक्स के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी निर्मल सिंह ने बताया कि आगामी वर्ष के दौरान भारत में सबसे ज्यादा भर्तियां बैंकिंग और वित्तीय क्षेत्रों के साथ-साथ आईटी और आईटीईएस वाले उद्योगों में होंगी। इनके बाद दूसरा नंबर स्वास्थ्य, ऑटोमोटिव, रिटेल सेगमेंट, लॉजिस्टिक्स आदि क्षेत्र हैं।
निर्मल सिंह के अनुसार देश के अन्य हिस्सों के मुकाबले दिल्ली एनसीआर, कर्नाटक व महाराष्ट्र जैसे राज्यों में रोजगार के अधिक अवसर पैदा होंगे। कोरोना के बाद हुए बदलाव के बारे में जानकारी देते हुए निर्मल सिंह ने कहा कि भारत में डिजिटल क्रांति के साथ ही रोजगार परकता में लैंगिक अंतर में सुधार हो रहा है।

सबसे बड़ा बदलाव यह आया है कि महिलाओं की सहभागिता पिछले पांच सालों से ज्यादा है। कुल कर्मियों में महिलाओं का हिस्सा 36 प्रतिशत व पुरुषों का हिस्सा 64 प्रतिशत है। महिलाओं की सबसे ज्यादा हिस्सेदारी बैंकिंग और वित्तीय सेवा से जुड़े क्षेत्रों में है। रोजगार परक प्रतिभाओं में महिलाएं 46 प्रतिशत तक हैं। यह ट्रेंड भविष्य के लिए, खासकर वर्क फ्रॉम होम की संभावनाओं को देखते हुए सबसे सकारात्मक ट्रेंड में से एक है।

 
बढ़ेगी बीटैक व एमबीए कोर्सों की मांग
इंडिया स्किल रिपोर्ट-2021 के अनुसार साल 2021 में सबसे ज्यादा बी.टैक और एमबीए कोर्सों की मांग रहेगी। इनका रोजगार परकता स्कोर 47 प्रतिशत रहेगा। इनके बाद बी.कॉम, बीए. बी.फार्मा के उम्मीदवारों को उच्च रोजगार परक संसाधन माना जाएगा। रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि प्रतिभा का व्यावहारिक उपयोग करना है तो क्लाउड कम्प्यूटिंग एंड डाटा साइंस के आगमन के साथ समग्र समाधान आए हैं।

 
Have something to say? Post your comment