Tuesday, October 24, 2017
Follow us on
BREAKING NEWS
मोदी ने कहा कठोर क़दम के बाद अर्थव्यवस्था पटरी पर लौटी जम्मू-कश्मीर: कुपवाड़ा में सुरक्षाबलों की आतंकियों से मुठभेड़, एक आतंकी ढेर आज गुजरात दौरे पर राहुल गांधी, कांग्रेस ने दिया हार्दिक पटेल और जिग्नेश मेवानी को खुला न्योता हिमाचल चुनाव: कांग्रेस की अंतिम सूची में वीरभद्र के पुत्र का नाम शामिल खुलेगा पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति केनेडी की हत्या का राज? फाइलें सार्वजनिक करेंगे ट्रंप भारतीय वायुसेना को यह ‘हथियार’ देने पर विचार कर रहा है अमेरिका चीन ने दुनियाभर के नेताओं को दी चेतावनी, दलाई लामा से मुलाकात की तो इसे एक गंभीर अपराध समझा जाएगा इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में कैमरा लगाने के लिए ऐस्ट्रोनॉट्स ने किया स्पेसवॉक
 
 
 
Business

सुशील मोदी ने कहा, पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के तहत लाया जाना चाहिए

October 13, 2017 01:35 AM

कोच्चि,12 अक्तूबर ( न्यूज़ अपडेट इंडिया ) : बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने पेट्रोलियम उत्पादों को माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के तहत लाने की वकालत की. मोदी जीएसटी नेटवर्क (जीएसटीएन) के तकनीकी मुद्दों को देख रहे मंत्रियों के समूह (जीओएम) के प्रमुख भी हैं. इसके अलावा मोदी जीएसटी परिषद के सदस्य भी हैं. उन्होंने कहा कि कुछ राज्यों का मानना है कि पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के तहत लाया जाना चाहिए. वहीं कुछ अन्य राज्य ऐसा नहीं चाहते. उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मेरा मानना है कि आगामी दिनों में यह मुद्दा हल हो जाएगा. मुझे लगता है कि जल्द पेट्रोलियम उत्पाद जीएसटी का हिस्सा होंगे.’’ एक सवाल के जवाब में मोदी ने कहा कि उनका मानना है कि पेट्रोलियम उत्पाद जीएसटी के तहत होने चाहिए. हालांकि, इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यह उनकी निजी राय है. दुनिया भर में पेट्रोलियम उत्पाद जीएसटी के दायरे में ही आते हैं.

मोदी ने पिछले महीने मंत्रिस्तरीय बैठक की अध्यक्षता की थी. यह बैठक जीएसटी नेटवर्क से जुड़े मुद्दों को हल करने की रूपरेखा तय करने के लिए थी. उन्होंने कहा, ‘‘मैं भरोसे के साथ कह सकता आगामी दिनों में अर्थव्यवस्था आगे बढ़ेगी. जो शुरुआती दिक्कतें आई हैं वे हल हो जाएंगी.’’

उन्होंने स्वीकार किया कि जीएसटी क्रियान्वयन के शुरुआती दिनों में कुछ समस्याएं रही हैं, लेकिन आगामी दिनों में अर्थव्यवस्था अधिक मजबूत स्थिति में होगी. मोदी ने कहा कि यदि एक या दो तिमाहियों में वृद्धि दर नीचे आती है तो इसे आर्थिक सुस्ती नहीं कहा जा सकता. यह एक चक्र है. संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार के कार्यकाल में भी कई ऐसी तिमाहियां रही हैं जबकि वृद्धि दर नीचे आई थी.

 
Have something to say? Post your comment
 
More Business News
नोटबंदी-जीएसटी से इस बार सुस्त रहा दीपावली पर कारोबार, कैट ने कहा 40 प्रतिशत की आई गिरावट
दिवाली बोनस में हर साल कार और फ्लैट देने वाले इस डायमंड कारोबारी ने इस बार दिया कुछ ऐसा, सब रह गए हैरान
बचत को बढ़ावा देने के लिए मोदी सरकार ने उठाया कदम, बैकों को दी लघु बचत योजनाओं का दायरा बढ़ाने की अनुमति
RBI ने कभी नहीं दिया बैंक एकाउंट को आधार से लिंक करने का आदेश, RTI में हुआ खुलासा
धनतेरस पर सस्ता हुआ सोना-चांदी, जानिए आपके शहर में क्या है कीमत और खरीदने का मुहूर्त
जीएसटी और नोटबंदी को लेकर यशवंत सिन्हा ने फिर साधा निशाना, कहा- राजशक्ति पर अंकुश के लिए लोकशक्ति
नई ऊंचाई पर सेंसेक्स, निफ्टी भी 10 हजार के पार
मजबूती की राह पर भारतीय अर्थव्यवस्था- आइएमएफ
60 रुपये का स्‍टाइपेंड पाने वाले ने खड़ा कर डाला 10,000 करोड़ का कारोबार
भारतीय रिजर्व बैंक की नीतियां वृद्धि के अनुकूल नहीं : फिक्की प्रमुख