Tuesday, October 24, 2017
Follow us on
BREAKING NEWS
मोदी ने कहा कठोर क़दम के बाद अर्थव्यवस्था पटरी पर लौटी जम्मू-कश्मीर: कुपवाड़ा में सुरक्षाबलों की आतंकियों से मुठभेड़, एक आतंकी ढेर आज गुजरात दौरे पर राहुल गांधी, कांग्रेस ने दिया हार्दिक पटेल और जिग्नेश मेवानी को खुला न्योता हिमाचल चुनाव: कांग्रेस की अंतिम सूची में वीरभद्र के पुत्र का नाम शामिल खुलेगा पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति केनेडी की हत्या का राज? फाइलें सार्वजनिक करेंगे ट्रंप भारतीय वायुसेना को यह ‘हथियार’ देने पर विचार कर रहा है अमेरिका चीन ने दुनियाभर के नेताओं को दी चेतावनी, दलाई लामा से मुलाकात की तो इसे एक गंभीर अपराध समझा जाएगा इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में कैमरा लगाने के लिए ऐस्ट्रोनॉट्स ने किया स्पेसवॉक
 
 
 
International

पाकिस्तान ने अमेरिका को दी नसीहत, कहा- CPEC को भारत के नजरिए से नहीं देखेना चाहिए

October 13, 2017 12:52 AM

वाशिंगटन,12 अक्तूबर ( न्यूज़ अपडेट इंडिया ) : चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) पर अमेरिका की चिंताओं को खारिज करते हुए पाकिस्तान के गृह मंत्री एहसान इकबाल ने कहा कि वाशिंगटन को इस बहु-अरब परियोजना को भारत के नजरिए से नहीं देखना चाहिए क्योंकि यह एक ऐसा मंच सुलभ करायेगा जो सबको फायदा पहुंचाएगा.इकबाल ने अपने बयान में कहा कि सीपीईसी दक्षिण और मध्य एशिया, पश्चिमी और अफ्रीकी देशों को आर्थिक गलियारे के माध्यम से भौगोलिक तौर पर जोड़ने के लिए एक मंच उपलब्ध कराएगा. 50 अरब अमेरिकी डॉलर की लागत वाला सीपीईसी, पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) से होकर गुजरेगा जिसको लेकर भारत ने चीन को अपने विरोध के बारे में बता दिया है. इसमें सियाचिन ग्लेशियर समेत काराकोरम पर्वत शृंखला का क्षेत्र भी शामिल होगा भारत इस गलियारे का एक कड़ा आलोचक रहा है और उसका मानना है कि यह परियोजना उसके प्रभुता का उल्लंघन करती है क्योंकि यह पीओके से गुजर रही है. अमेरिकी रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस ने पिछले हफ्ते कहा था कि सीपीईसी विवादित क्षेत्र से गुजरता है और अमेरिका इस तथ्य की अनदेखी नहीं कर सकता. हालांकि इकबाल ने कहा कि सीपीईसी को लेकर अमेरिका की चिंता निराधार है. उन्होंने कहा कि यह सबको फायदा पहुंचाएगा और एक ऐसा मंच है जो दक्षिण और मध्य एशिया, पश्चिमी और अफ्रीकी देशों को आर्थिक गलियारे के माध्यम से भौगोलिक तौर पर जोड़ने के लिए एक मंच उपलब्ध कराएगा. उन्होंने कहा कि अमेरिका को सीपीईसी को भारत के नजरिए से नहीं देखना चाहिए, बल्कि इसे क्षेत्र में शांति, स्थिरता और समृद्धता के स्रोत के तौर पर देखना चाहिए. सीपीईसी इस क्षेत्र में बहुप्रतिक्षित स्थिरता ला सकता है जो पिछले कई दशकों से युद्ध से प्रभावित रहा है. उन्होंने कहा कि अगर अमेरिका इस क्षेत्र को भारत के नजरिए से देखेगा तो इससे क्षेत्र के साथ ही अमेरिकी हितों को भी नुकसान होगा. इसलिए जरूरी है कि अमेरिका इस स्थिति को स्वतंत्र दृष्टिकोण से देखे, किसी और के नजरिए से नहीं.

 
Have something to say? Post your comment
 
More International News
खुलेगा पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति केनेडी की हत्या का राज? फाइलें सार्वजनिक करेंगे ट्रंप
भारतीय वायुसेना को यह ‘हथियार’ देने पर विचार कर रहा है अमेरिका
चीन ने दुनियाभर के नेताओं को दी चेतावनी, दलाई लामा से मुलाकात की तो इसे एक गंभीर अपराध समझा जाएगा
इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में कैमरा लगाने के लिए ऐस्ट्रोनॉट्स ने किया स्पेसवॉक
रोहिंग्या मुद्दा: अमेरिकी सांसदों की मांग, म्यांमार की सेना को इस तरह सिखाया जाए ‘सबक’
अफगानिस्तान में आत्मघाती हमले में करीब 70 लोगों की मौत
पाक राजदूत ने सुषमा स्वराज से मुलाकात की, कुलभूषण के मुद्दे पर चर्चा की खबर से किया इनकार
जर्मनी: म्यूनिख में चाकू हमले में 4 लोग जख्मी, संदिग्ध गिरफ्तार
यमन में अमेरिका के ताबड़तोड़ हवाई हमले, मार गिराए अल-कायदा के 5 आतंकी
अफगानिस्तान: काबुल की शिया मस्जिद में आत्मघाती हमला, 30 लोगों की मौत