Tuesday, September 29, 2020
Follow us on
 
 
 
National

टिड्डीदल के हमले को बेअसर नहीं कर पाई सरकार की दवाई

July 10, 2020 07:13 PM

चंडीगढ़। टिड्डी दल के हमले से किसानों की फसल को बचाने के लिए कृषि विभाग ने जिस दवाई से छिडक़ाव किया है वहीं कथित तौर पर घटिया क्वालिटी की थी। पलवल जिला में शिकायत मिलने के बाद जहां संबंधित कंपनी के विरूद्ध कार्रवाई कर दी गई है वहीं अन्य जिलों से भी दवाई को लेकर फीडबैक रिपोर्ट मांग ली गई है।
हरियाणा में पिछले दिनों टिड्डी दल का हमला हुआ था। जिसके चलते किसानों ने जहां अपने स्तर पर खेतों में थालियां आदि बजाकर टिड्डीयों को भगाया वहीं हरियाणा सरकार ने भी कृषि विभाग के कर्मचारियों के माध्यम से प्रभावित क्षेत्रों में दवा का छिडक़ाव करवाया।
सूत्रों के अनुसार ‘क्लोरपाइरीफोस’ नामक दवा प्रभावी सिद्ध नहीं हो सकी। कृषि विभाग के आला अधिकारियों को मिली रिपोर्ट के मुताबिक यह दवा जयपुर की एक कंपनी से ली गई थी। जिसने मई माह के दौरान ही यह लॉट बनाने का दावा किया था। हालांकि इस दवा की वैधता अप्रैल 2022 तक थी लेकिन जून माह के दौरान जब हरियाणा में इसका इस्तेमाल किया गया तो यह टिड्डीयों को भगाने अथवा मारने में कारगर सिद्ध नहीं हो सकी।
छिडक़ाव करने वाले कर्मचारियों ने मुख्यालय को दी जानकारी में दावा किया कि इस दवा के छिडक़ाव का टिड्डीयों पर कोई असर नहीं हुआ।
विभागीय अधिकारियों ने जब इस दवा के सैंपल लेकर लैब में जांच करवाए तो वह तय मानकों पर खरे नहीं उतरे। जिसके चलते जयपुर में पंजीकृत दवा निर्माता कंपनी के विरूद्ध कार्रवाई कर दी गई है। 
 
Have something to say? Post your comment
More National News
शैक्षणिक ढांचे को मजबूती देना हमारा लक्ष्य: सुधीर सिंगला शैक्षणिक ढांचे को मजबूती देना हमारा लक्ष्य: सुधीर सिंगला शैक्षणिक ढांचे को मजबूती देना हमारा लक्ष्य: सुधीर सिंगला
जल्द स्वस्थ हो जनसेवा में जुटेंगे सांसद संजय भाटिया: बोधराज सीकरी
गुरुग्राम: रक्तदान शिविर लगाने पर डेरा सच्चा सौदा गुरुग्राम को किया सम्मानित
लद्दाख में सड़क हादसे का शिकार हुए जवान का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार
स्वतंत्रता दिवस पर हरियाणा में भी फहराया गया था खालिस्तान का झंडा
युवाओं को अभी नहीं मिलेगा हरियाणा के उद्योगों में 75 प्रतिशत आरक्षण!
जब पीएम मोदी ने कृतिका से पूछा ,इतने अच्छे नंबर लाकर कैसा लग रहा है
राजस्व जुटाने को हरियाणा सरकार बेचेगी शराब