National

भारत रत्न प्रणब मुखर्जी लाए मेवात,गुरुग्राम के सौ गावों में सामाजिक क्रांति

July 06, 2020 12:02 PM

चंडीगढ़। भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के सार्थक प्रयासों से मेवात व गुरुग्राम के सौ से अधिक गावों में सामाजिक क्रांति आ रही है। प्रणब मुखर्जी फांउडेशन द्वारा हरियाणा, राजस्थान और उत्तराखंड के 126 गांवों को स्मार्ट ग्राम बनाने के लिए काम किया जा रहा है। इनमें 101 गांव हरियाणा के मेवात और गुरुग्राम के हैं। जहां तकनीक, स्वास्थ्य, खुशी, इंसानियत और भाईचारे को बढ़ाने के मूल मंत्र पर काम चल रहा है।

तकनीक, स्वास्थ्य, खुशी, इंसानियत और भाईचारे को बढ़ाने पर हो रहा काम
 


प्रणब मुखर्जी ने राष्ट्रपति रहते हुए 2016 में मेवात का रोजका मेव, गुरुग्राम जिले के सोहना का दौहला, अलीपुर और हरचंद तथा इसी जिले के फरुर्खनगर ब्लाक का ताजनगर गांव गोद लिया था। कार्यकाल पूरा होने के बाद उन्होंने प्रणब मुखर्जी फाउंडेशन का गठन किया और 101 गावों को गोद लेकर बदलाव की कहानी लिखनी शुरू की।
फाउंडेशन की निदेशक एंव पूर्व राष्ट्रपति की तत्कालीन सचिव ओमिता पॉल की देखरेख में इन गांवों को स्मार्ट बनाने की मुहिम को गति प्रदान की जा रही है। इनमें मेवात के 20, गुरुग्राम जिले के सोहना ब्लाक के 60 और फर्रूखनगर ब्लाक के 20 गांव शामिल हैं। फाउंडेशन की निदेशक ओमिता पॉल के अनुसार हरियाणा की जगमग योजना से पहले ही प्रणब मुखर्जी के गोद लिए गांवों में 24 घंटे बिजली की व्यवस्था हो गई थी।
 
इन गांवों में लैंगिक असमानता को दूर करने, वाई-फाई की उपलब्धता, आर्गेनिक खेती, सेल्फ हेल्फ ग्रुप को प्रोत्साहन देते हुए उनके उत्पादों को बाजार उपलब्ध कराने तथा मुफ्त ट्रेनिंग की व्यवस्था की गई है। जिन स्कूलों में शिक्षकों की कमी है, वहां फाउंडेशन की ओर से शिक्षकों की नियुक्ति की गई, ताकि कोई बच्चा शिक्षा से वंचित न रह सके।
प्रणब मुखर्जी के गोद लिए इन गांवों में जींद जिले के बीबीपुर माडल आफ वूमैन इंपावरमेंट एंड विलेज डेवलपमेंट के माडल को भी लागू किया गया है, जिसके जरिये विकास के साथ-साथ घरेलू व सामाजिक हिंसा का विरोध किया गया। इन गावों में 50 स्कूल ऐसे हैं, जहां मास्टर कम हैं, जिन्हेंं फांउडेशन के खर्च पर इन स्कूलों में रखा गया है। पांच गांवों में आयुष केंद्र बनाए गए, जबकि 13 गांवों में खारे पानी की समस्या के चलते वाटर एटीएम लगाए गए हैं।
सफाई और शिक्षा का महत्व जान रहे लोग
गुरुग्राम के गांव दौला, नयागांव और ताजनगर में गांवों की काफी सूरत बदली है। लोग सफाई और शिक्षा का महत्व जानने लगे हैं। बच्चियों की एजुकेशन को लेकर जागृति आई है। जलभराव की समस्या पर काफी हद तक काबू पा लिया गया है। 
गढ़ी बाजीपुर जिले के किसान रामवीर सिंह के अनुसार फाउंडेशन ने उन्हेंं आर्गेनिक खेती के लिए बीज व अन्य प्रोत्साहन देकर प्रोत्साहित किया है। दौला गांव के ओमप्रकाश और ताजनगर के मसालों का काम करने वाले प्रदीप का कहना है कि उनके सामने मार्केटिंग के भी नए अवसर पैदा हुए हैं।
 
 
 
Have something to say? Post your comment
More National News
जब पीएम मोदी ने कृतिका से पूछा ,इतने अच्छे नंबर लाकर कैसा लग रहा है
राजस्व जुटाने को हरियाणा सरकार बेचेगी शराब
लॉकडाउन में सडक़ों पर रही पुलिस, दुबके रहे अपराधी
टिड्डीदल के हमले को बेअसर नहीं कर पाई सरकार की दवाई
हरियाणा के मुख्यमंत्री सैकड़ों युवाओं के करेंगे ऑनलाइन संवाद
हरियाणा के टैलेंट को राष्ट्र स्तर तक पहुंचाना होगा उद्देश्य: रितु कटारिया
कोरोना महामारी में बिजनेस चलाना चुनौती, हार ना मानें: नवीन जिंदल
टिड्डी दल से बचाव के लिए फसलों पर करें नीम तेल का छिडक़ाव
राष्ट्र के महत्वपूर्ण मुद्दों पर सभी दलों का एक होना जरूरी: सत्यपाल जैन
दसवीं के बच्चे पढ़ेंगे हरियाणा के बीबीपुर गांव से शुरू हुई बदलाव की कहानी