Tuesday, April 13, 2021
Follow us on
 
 
 
Entertainment

रवि चोपड़ा ने फिल्में छोड़ी तो धर्मेंद्र बने हीरो, अब रवि मरे गुमनाम मौत

June 14, 2020 07:34 PM

चंडीगढ़। पिछले लंबे समय से गुमनामी का जीवन व्यतीत कर रहे बालीवुड में 70 के दशक के चर्चित अभिनेता रहे रतन उर्फ रवि चोपड़ा का शुक्रवार की रात पंजाब के मलेर कोटला में निधन हो गया। उन्होंने अपने पुश्तैनी घर में अंतिम सांस ली। प्रशंसकों व जानकार लोगों को उनकी मौत के बारे में रविवार को पता चला। लॉकडाउन के दौरान यह दूसरा मौका है जब बालीवुड के चर्चित चेहरे की गुमनाम मौत हुई है।
लंबे समय तक वह पंचकूला के सैक्टर-26 में एक किराए के मकान में रहते थे। कैंसर का शिकार रवि चोपड़ा कई वर्षों से गरीबी में जीवन यापन कर रहे थे। उन्हें कभी भी बेहतर उपचार नहीं मिल सका। कई बार समाचार पत्रों में ऐसे समाचार भी आए जब पता चला कि रवि चोपड़ा मंदिरों व गुरूद्वारों में सेवा करके वहीं खाना खाते हैं और वहीं रहते हैं।

पंचकूला स्थित मनसा देवी व नाडा साहिब में खाते थे खाना, गरीबी में कैंसर का नहीं करवा सके इलाज


मरहूम रवि चोपड़ा ने वर्ष 1972 में फिल्म अभिनेत्री तनूजा के साथ फिल्म ‘मोम की गुडिय़ा’ मुख्य भूमिका निभाई थी। उनका वास्तविक नाम अब्दुल जब्बार खान था। इसके बाद उनके पास लोफर, आया सावन झूम के और जुगनू जैसी फिल्में के ऑफर आए लेकिन उन्होंने इन फिल्मों में काम नहीं किया। यही फिल्में अभिनेता धर्मेंद्र के करियर के लिए टर्निंग प्वांइट साबित हुई।

 
Have something to say? Post your comment