Wednesday, January 17, 2018
Follow us on
 
 
 
National

केंद्र ने राज्यों को लिखा पत्र, निजी अस्पतालों की मनमानी पर लगाएं लगाम 

December 08, 2017 03:24 PM

नई दिल्ली,07 दिसंबर ( न्यूज़ अपडेट इंडिया )  केंद्र सरकार ने सभी राज्यों को पत्र लिखकर निजी अस्पतालों की मनमानी पर लगाम लगाने के लिए कहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने अपने इस पत्र में राज्यों से क्लीनिकल इस्टेब्लिश्मेंट (रजिस्ट्रेशन एंड रेगुलेशन) एक्ट, 2010 को अपनाने और लागू करने का अनुरोध किया है। एक्ट का मकसद निजी स्वास्थ्य क्षेत्र के कदाचार पर रोक लगाना है।

स्वास्थ्य मंत्री का यह पत्र हाल ही में गुरुग्राम के फोर्टिस और दिल्ली के मैक्स अस्पताल में क्रमश: अधिक फीस वसूलने और लापरवाही की घटनाओं के बाद आया है। पत्र में स्वास्थ्य मंत्री ने कहा है कि एक्ट के प्रभावी कार्यान्वयन से उपचार से जुड़े संस्थानों के अनैतिक कार्यो में लिप्त होने पर रोक लगेगी और वे मरीजों के प्रति अपनी जिम्मेदारियों और कर्तव्यों का निर्वहन सुनिश्चित करेंगे। इस एक्ट में उपचार से जुड़े संस्थानों द्वारा प्रदान की जाने वाली सुविधाओं के न्यूनतम मानकों का भी उल्लेख है। नड्डा ने राज्यों से यह भी कहा है कि अगर उन्हें यह एक्ट अपने अनुकूल नहीं लगता है तो वे इस विषय पर अपना कानून भी बना सकते हैं।

बता दें कि अभी तक अरुणाचल प्रदेश, राजस्थान, झारखंड, असम और सभी केंद्र शासित प्रदेशों (दिल्ली को छोड़कर) ने इस एक्ट को अपनाकर लागू कर दिया है। जबकि सिक्किम, बिहार, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड जैसे राज्यों ने इसे अपना तो लिया है, लेकिन लागू नहीं किया है।

 
Have something to say? Post your comment
 
More National News
राहुल कल निर्विरोध चुने जाएंगे कांग्रेस अध्यक्ष, 16 को होगा अहम एलान
इलाहाबाद हाई कोर्ट में डेढ़ साल से जमानत की अपील लंबित रहने पर सुप्रीम कोर्ट हुआ नाराज
अमित शाह ने देशद्रोहियों की मदद लेने पर कांग्रेस को कोसा
भाजपा के लेन-देन पर कांग्रेस ने उठाए सवाल
त्रिपुरा विधानसभा में छह टीएमसी विधायकों को भाजपा सदस्यों के रूप में मान्यता
इलाहाबाद के खुल्दाबाद और धूमनगंज थाने में अब आईजी और एसएसपी करेंगे कैंप
आयुर्वेद में भारत के मंसूबों पर पानी फेर सकता है जड़ी-बूटियों की किल्लत
यरुशलम पर तीसरे देश के फैसले से हमारे विचार प्रभावित नहीं: भारत
'नीच' बयान पर नपे अय्यर, कांग्रेस ने किया पार्टी से निलंबित
जनलोकपाल के लिए अन्ना हजारे फिर मैदान में, 23 मार्च से करेंगे जनांदोलन