Monday, December 11, 2017
Follow us on
 
 
 
Punjab

22 सिटिंग पार्षदों को हरी झंडी, नाराज दावेदारों ने मंत्री अरुणा को घेर सुनाई खरी-खोटी

December 05, 2017 11:44 AM

 जालंधर,03 दिसंबर ( न्यूज़ अपडेट इंडिया ) नगर निगम चुनाव के लिए कांग्रेस की स्थानीय स्क्रीनिंग कमेटी ने शनिवार को सभी 22 सिटिंग पार्षदों को प्रत्याशी बनाने का फैसला किया। हालांकि दावेदारों की संख्या 300 के करीब होने के कारण पार्टी सभी 80 वार्डो से उम्मीदवार घोषित नहीं कर पाई। शेष उम्मीदवारों के भविष्य का फैसला रविवार को दिल्ली में स्क्रीनिंग कमेटी तय करेगी। इस बीच टिकट आवंटन से नाराज चल रहे दावेदारों ने शिक्षा मंत्री अरुणा चौधरी की कार घेर उन्हें खूब खरी-खोटी सुनाई।

इससे पहले टिकट आवंटन को लेकर स्क्रीनिंग कमेटी के सदस्यों सांसद चौधरी संतोख सिंह, शिक्षा मंत्री अरुणा चौधरी व जिला प्रधान दलजीत सिंह आहलुवालिया ने पहले अकेले बैठक कर वार्डवाइज टिकटों पर चर्चा की। इसके बाद शहर के चारों विधायकों विधायक परगट सिंह, बावा हैनरी, राजिंदर बेरी, सुशील रिन्कू, राजिंदर बेरी व पूर्व मंत्री मोहिंदर सिंह केपी के साथ मीटिंग की। अरुणा चौधरी ने कहा कि सभी विधायकों से बात कर उनकी सिफारिशों के अनुसार वार्डवाइज दो से तीन नामों के पैनल बना लिए गए हैं। रविवार को दिल्ली में स्टेट स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक है। वहीं टिकटों को लेकर फैसला होगा। पांच दिसंबर तक सभी टिकटों की घोषणा कर दी जाएगी। 

-वार्ड 24, 53 व 74 के दावेदारों ने कमेटी सदस्य मंत्री अरुणा चौधरी की कार घेरी

इधर, शिक्षा मंत्री अरुणा चौधरी का तीन वार्डो के नाराज चल रहे दावेदारों ने पसीना निकाल दिया। दावेदार व समर्थकों ने अरुणा चौधरी की गाड़ी रोक उन्हें खूब खरी-खोटी सुनाई। नए वार्ड बने 24 से जहां युवा नेता राजीव कक्कड़ को टिकट देने की मांग उठी, वहीं 53 से प्रवीण चढ्डा, स्व. प्रदीप दुल्ली के बेटे ने अपनी मां के लिए टिकट की मांग की है। चढ्डा का कहना है कि पहले इस वार्ड से चमन लाल दादा चुनाव लड़ा करते थे और वे हर बार दादा को जिताने में अहम भूमिका निभाते रहे। अब जबकि चमन लाल दादा नहीं रहे तो टिकट पर उनका हक बनता है। वार्ड 73 से गुरदीप कौर के समर्थकों ने भी शिक्षा मंत्री को खरी खोटी सुनाई। गुरदीप कौर का कहना था कि वे 40 सालों से कांग्रेस से जुड़ी हैं। उनके पति ने झूठे दर्ज हुए मामले में छह वर्ष तक जेल काटी। घर तक बर्बाद हो गया लेकिन पार्टी उन्हें टिकट देने की बजाय भाजपा से आए व्यक्ति को टिकट देने पर विचार कर रही है। मंत्री चौधरी की गाड़ी का घेराव कर गुरदीप कौर के समर्थकों ने नारेबाजी भी की। अरुणा चौधरी इतना आश्वासन देकर वहां से निकल गई कि किसी के साथ धक्का नहीं होगा। 

वार्ड 74 के दो दावेदारों ने रिंकू की मुश्किल बढ़ाई

वेस्ट में पहले से ही दावेदारों के गुस्से का शिकार हो रहे विधायक रिंकू के लिए वार्ड 74 में मदन लाल खिंदर व तरसेम थापा ने परेशानी बढ़ा दी है। रतन ब्रदर्स के मालिक मदन लाल खिंदर का बस्ती दानिशमंदा के तीन वार्डो में खासा वोट बैंक है, वहीं वफादारी में तरसेम थापा भी किसी से पीछे नहीं हैं। दोनों ही उम्मीदवार इसी वार्ड से टिकट का दावा कर रहे हैं। यहां थोड़ी सी भी चूक रिंकू के लिए घातक सिद्ध हो सकती है। अगर खिंदर को नाराज करते हैं तो कांग्रेस का वोट बैंक खिसकता है। यदि थापा के लिए कुछ न कर पाए तो वफादार की वफा पर 'धब्बा' लगता है। 

बिंट्टा के माइक पकड़ते ही खफा हुए कमेटी मेंबर

टिकट आवंटन को लेकर शिक्षा मंत्री के साथ दावेदारों व समर्थकों की बहस से पहले ही कांग्रेस दिग्गज काफी परेशान थे। जैसे ही शिक्षा मंत्री अरुणा चौधरी ने माइक छोड़ा तो सतनाम बिंट्टा ने माइक पकड़ते हुई अपनी बात रखनी चाही। इस पर सांसद चौधरी संतोख सिंह व प्रधान आहलुवालिया खफा हो गए और बिंट्टू को चुप करवाते हुए भवन से बाहर निकल आए।

 

विनिंग दावेदार का समर्थन करें बाकी दावेदार : अरुणा

शिक्षा मंत्री अरुणा चौधरी व सांसद संतोख सिंह चौधरी ने कार्यकर्ताओं से कहा कि जिस तरह से विधानसभा चुनावों में एकजुटता दिखा विजय हासिल की थी, उसी प्रकार नगर-निगम चुनावों में भी हमें अपना मेयर बनाना है। उन्होंने दावेदरों से कहा कि जहां पर ज्यादा दावेदार हैं वहां विनिंग दावेदार के लिए बाकी खुद ही रास्ता साफ कर दें। 

बाहरी विनिंग दावेदार को भी मिलेगी टिकट : मंत्री चौधरी

शिक्षा मंत्री अरुणा चौधरी ने कहा कि अन्य पाटिर्यो से हाल ही में आए दावेदारों को भी सीट मिलेगी यदि वह विनिंग पोजिशन में हैं। कांग्रेस को हर हाल में ऐसे दावेदारों को नगर-निगम चुनावों में उतारना है जो विनिंग पोजिशन में हैं।

बिना कांग्रेस मेयर शहर का विकास संभव नहीं

शहर में अभी तक विकास कार्य न होने को लेकर मंत्री चौधरी ने कहा कि जब तक कारपोरेशन में अपना मेयर नहीं आ जाता तब तक शहर का विकास हो पाना संभव नहीं था। पिछले मेयर ने लंबे समय से मीटिंग ही नहीं बुलाई। इसके चलते प्रदेश में उनकी सरकार बनने के बावजूद कई प्रोजेक्ट शुरू नहीं हो पाए। अब कांग्रेस अपना मेयर बना शहर के लोगों की स्मार्ट सिटी से लेकर मूलभूत सुविधाएं पूरी करेगी। महिला मेयर बनने के सवाल पर अरुणा चौधरी ने कहा कि समय आने पर ही यह तय होगा कि महिला मेयर बनानी है या पुरुष। इस दौरान कांग्रेस सुखपाल खैहरा के इस्तीफे की मांग को उन्होंने कोई भी टिप्पणी करने से इन्कार कर दिया।

 
Have something to say? Post your comment